Tuesday, December 6, 2011

लड़ाई जारी है


कविता
                           लड़ाई जारी है

                    बीच चौराहे पर
                    लाल ईंटों वाले घेरे में
                    खडे होकर
                    मन्नू चीख रहा है
                    लोग आते हैं- चले जाते हैं
                    पर बच्चे खुश हैं
                    ताली बजा रहे हैं
                    बहुत दिन बाद
                    गर्मी की छुट्टी में
                    डुगडुगी बजाता नट
                    तमाशा दिखा रहा है
                    पर,
                    बच्चे नहीं जानते
                    यह " तमाशा" नहीं
                    " तमाचा" है
                    आदमियत के गाल पर
                    मन्नू शरीर से नहीं
                    मन से बच्चा है
                    वह भी नहीं जानता
                    "तमाचा" और "तमाशा" का फ़र्क
                    इस फ़र्क और अर्थबोध से परे
                    उसकी देह पर कपड़े का एक टुकड़ा नहीं
                    मन्नू के लिए
                    भीतर के नंगेपन से बेहतर है
                    बाहर का नंगापन
                    उसके आसपास से ग़ुज़रते लोग
                    निर्लिप्त हैं-
                    उन्हें पता है
                    मन्नू पागल है
                    पर मन्नू- सिर्फ़ मन्नू जानता है कि
                    वह नहीं,
                    दुनिया पागल है
                    मन्नू बरसों से नहाया नहीं है
                    बजबजाती व्यवस्था के ख़िलाफ़
                    उसकी लड़ाई जारी है
                    इस लड़ाई में उसके साथ कोई नहीं
                    अकेला मन्नू ही काफी है
                    दुश्मनों को खदेड़ने के लिए
                    अपनी पतली-छिपकली की पूँछ सरीखी
                    उंगलियों का निशाना साध कर
                    वार करता है-दुश्मनों पर
                    ठांय...ठांय...ठांय...
                    मन्नू जश्न मनाता है
                    अपने धँसे हुए पेट के साथ
                    मन्नू अकेला ही लड़ रहा है
                    दुश्मनों के तमाम मोर्चे
                    ध्वस्त करने का सपना लिए
                    सामने चमक रहा है
                    बड़ा सा विज्ञापन
                    "गंगा" साबुन का
                    और,
                    दो कप...सिर्फ़ दो कप बोर्नविटा पिला कर
                    बच्चों को स्वस्थ रखने का सरल उपाय पाकर
                    मुस्कराती हुई माँ नही जानती
                    कि, उसकी छाती में दूध कहाँ?
                    हम,
                    इक्कीसवीं सदी में क्या पेड़ लगाएंगे
                    हमने तो सारी जड़ों को खोद रखा है
                    मन्नू नहाएगा नहीं
                    गंगा के पानी में घुली है
                    लाशों की सड़ांध
                    पूरी देह बजबजा रही है
                    सरकारी व्यवस्था की तरह
                    रोटी के हर टुकड़े में
                    मिलावट है,
                    घूसखोरी की
                    मिनरल वाटर के नाम पर
                    बोतलों में बंद गंदा पानी
                    हमारी नसों में बहने लगा है
                    मन्नू हारेगा नहीं
                    वह डटा है अपने मोर्चे पर
                    एक वीर सिपाही की तरह
                    वह नारे लगा रहा है
                    अनुरोध कर रहा है
                    ठीक गांधी बाबा की तरह
                    विदेशी कपडे मत पहनो
                    मिलावट की रोटी मत खाओ
                    पानी में ज़हर घुल गया है
                    ज़हर को नसों में मत बहने दो
                    हर किसी को समझाता मन्नू
                    खुद बौरा गया है
                    ढेरों पैसा कमाने की जल्दी में
                    लोग उसकी बात क्यों नहीं सुनते?
                    मन्नू पत्थर मार कर समझाता है
                    औरों को भी पत्थर मारना आता है
                    हम क्या खाएं?
                    अपने बच्चों को क्या पिलाएं?
                    तुम सिर्फ़ अपनी बात कहते हो
                    हमारी बात क्यों नही समझते?
                    पूरा देश मिलावट की झाग में डूबा है
                    बाहर से उजले दिखते लोग
                    सस्ते डिटर्जेंट को पाकर
                    बौरा गए हैं
                    गंगा साबुन से नहाकर
                    गंगा की सड़ांध को भूल गए हैं
                    कोई क्या करे
                    हर कोई एक-दूसरे पर पत्थर फेंक रहा है
                    मन्नू खुश है... बहुत खुश
                    अब वह अकेला नहीं है
                    बहरों के इस देश में
                    चीखने के लिए
                    गूंगे उसके साथ हैं...।

Sunday, November 20, 2011

मेरी कविता - हिन्दी टाइम्स मे

नमस्कार,
कल मेरी एक कविता - अरे बाप रे, इत्ता पानी- कनाडा से निकालने वाले एक लोकप्रिय हिंदी दैनिक ` हिंदी टाइम्स ' में प्रकाशित हुई है | आजकल कम्बोज भाई ( श्री रामेश्वर कम्बोज `हिमांशु' जी ) कनाडा में ही है अपने बेटे के पास...| उन्होंने ही फ़ोन पर इस बात की सूचना  भी दी, पत्र का लिंक भेजा और साथ ही मेरी कविता को jpg फॉर्मेट में परिवर्तित कर के भी भेज दिया | उनके इस निस्वार्थ सहयोग के लिए मै तहे-दिल से उनकी आभारी हूँ | आज के इस युग में  जब हर कोई ईर्ष्या-द्वेष से भरा हुआ है, कम्बोज भाई जैसे लोग बहुत कम मिलते है | ये न केवल अपने समकालीन साथियों की मदद को हमेशा तैयार रहते है, बल्कि उन्होंने बहुत सी नई प्रतिभाओ को भी प्रोत्साहन दिया है |
तो आप भी मेरी यह कविता प्रकाशित रूप में देख कर अपनी अमूल्य प्रतिक्रिया दे...|

Monday, November 14, 2011


कविता
                                 मेरी कविता

                     अक्सर मै
                     कविता
                     ऐसे ही लिख जाती हूँ
                     जैसे                                    
                     किसी सर्द रात में
                     चुपके से
                     याद तुम्हारी आती है
                     या फिर
                     किसी चाँदनी रात में
                     सफ़ेद-
                     खरगोशी बर्फ़ का लिहाफ़ ओढ़ कर
                     तकती
                     सारी रात आकाश को
                     पता नहीं कब
                     ऐसे में
                     बह जाती पंक्तियाँ
                     तारावलियों की
                     किसी कविता की काव्यमय धारा सी
                     सोचती हूँ
                     रचना छोड़ दूँ कविता
                     पर
                     आसान नहीं यह
                     पता नहीं कैसे-कब
                     होंठो पर
                     लाली सी रच जाती है                    
                     कविता...।

( दोनों चित्र गूगल से साभार)

Wednesday, September 28, 2011


कविता
                             अपनी बेटी के लिए

                 अपनी युवा बेटी के लिए
                 मुझे कोई भी उपमा
                 ठीक नहीं लगती
                 यद्यपि,
                 वह खिले हुए गुलाब सी
                 तरोताज़ा और खूबसूरत है
                 उसकी नर्म-गुलाबी त्वचा
                 पंखुड़ियों की कोमलता समेटे है
                 इसीलिए,
                 उसे देख कर मुझे
                 किसी बगीचे में खिले
                 खूबसूरत गुलाब की याद आई है
                 पर,
                 उस याद को मैने झटक दिया है
                 क्योंकि,
                 न जाने क्यों
                 गुलाब की नियति मुझे डराती है
                 मैं अपनी बेटी के लिए
                 चाँद-तारों को भी उपमित नहीं करना चाहती
                 जो चीज़ मेरी पहुँच से दूर है
                 उसे बेटी की ज़िन्दगी के
                 समानान्तर क्यों लाऊँ?
                 मुझे तो अपनी बेटी के लिए
                 बस यही उपमा ठीक लगती है कि
                 वह उगते हुए सूरज का
                 एक ऐसा अक्स है
                 जो पूरी दुनिया को रौशन करता है
                 पर,
                 उससे भी ज़्यादा
                 मुझे लगता है
                 जैसे-
                 मेरा डूबता हुआ जीवन
                 उसके ख़ूबसूरत चेहरे पर
                 ज़ुल्फ़ों के घने अंधेरे के बीच भी
                 चाँद की तरह मुस्करा रहा है
                 और मेरा बचपन
                 उसकी आँखों की झील में
                 एक सुनहरा सपना बन कर
                 डोल रहा है।



(दोनों  चित्र गूगल से साभार)

Thursday, August 18, 2011

शर्म भी शर्मसार है


कविता
                              शर्म भी शर्मसार है

                    मुझे,
                    शर्म आती है ऐसे देश पर
                    जहाँ नेता
                    बच्चों की तरह बिहेव करते हैं
                    मुझे घिन आती है
                    ऐसे घरौंदे पर
                    जहाँ बाप
                    बेटी से ही रेप करते हैं

                    मुझे नफ़रत है ऐसे माहौल से
                    जहाँ,
                    मुद्दों की आड़ में
                    भाई और भाई लड़ते हैं
                    मुझे दुःख है ऐसे देश पर
                    जहाँ अन्न के भंडार हैं
                    पर फिर भी
                    भूख से लाखों मरते हैं
                    दोस्तों,
                    अब तो शर्म भी शर्मसार है
                    उस देश से
                    जहाँ पापी मोती चुगते हैं
                    और बेकसूर यूँ पिटते हैं

                    उस देश को मैं क्या कहूँ
                    जहाँ सभी
                    अच्छी छवि की बात तो करते हैं
                    पर अपनी ही छवि को
                    पानी में देख डरते हैं...।

(सभी चित्र गूगल से साभार)

Thursday, July 21, 2011

क्षणिकाएँ


 १)                हम ज़िन्दगी में
                  बहुत कुछ करने की
                  योजना बनाते हैं
                  पर समय बीतने पर
                  सिर्फ़ राग अलापते हैं...|


२)                रुको राम
                  सीता को वनवास देने से पहले
                  सोचो कि-
                  धोबी के कलंक से बचने का
                  तुम्हारा यह तरीका
                  क्या तुम्हें फिर कलंकित न करेगा...?

३)                हम
                  दूसरों के पाँवों से चलकर
                  तय करना चाहते हैं
                  मीलों लम्बा सफ़र
                  पर,
                  थक जाते हैं जब वे पाँव
                  तब अलग कर देते हैं उन्हें
                  झटक देते हैं अपने से दूर
                  और फिर जुट जाते हैं
                  नए सिरे से
                  एक जोडी और
                  पाँवों की तलाश में...

४)                शब्द
                  बहुत मानी रखते हैं
                  या फिर
                  बेमानी होते हैं शब्द
                  मौसम की तरह
                  रूप बदलते हैं- शब्द
                  कोई लडता है जब
                  कुरूप हो जाते हैं- शब्द
                  पर,
                  प्यार के मौसम में
                  अर्थ खो देते हैं-शब्द
                  पर फिर भी
                  कितने खूबसूरत हो जाते हैं- शब्द |

५)              ज़िन्दगी और गुलाब
                  दोनो ही
                  खिलकर महकाते हैं
                  अपनी-अपनी बगिया को
                  और दोनो ही
                  जीने की कला सिखाते हैं
                  काँटों से भी बिंधकर
                  कैसे मुस्कराया जाता है
                  ज़िन्दगी और गुलाब
                  जाने से पहले
                  वक़्त की चौखट पर
                  इसी फ़िज़ा को छोड जाते हैं...|

६)              दुःख के रेगिस्तान में
                 ज़िन्दगी को तलाशती
                 मेरी आँखें
                 ख़ौफ़ से टकरा गई
                 ऐ मौत !
                 मुझे तेरी तलाश तो न थी...।


Wednesday, July 6, 2011

बड़े अफ़सोस की है बात


हमारे जीवन की रोजमर्रा की बहुत सारी ऐसी छोटी-मोटी घटनाएँ होती हैं, जो ‘देखन में छोटी लगे, घाव करे गम्भीर’ वाली स्थिति लागू कर जाती हैं। हम में से हर कोई कभी-न-कभी उनसे दो-चार हुआ होता है, पर ज़्यादातर हम उन्हें नज़र‍अन्दाज़ कर के अपने ज़िन्दगी के सफ़र में आगे बढ़ जाते हैं, यह सोच कर कि बेकार के पचड़ों में कौन पड़े...। पर मुझे अक्सर इन बातों पर कोफ़्त होने के साथ अफ़सोस भी होता है...। अगर कर पाती हूँ तो अपने भरसक उन पर अपना विरोध ज़रूर जताती हूँ...।
तो आज उनमें से चन्द अफ़सोसजनक बातें आपके साथ भी बाँट रही हूँ...।

१) मँहगाई के इस ज़माने में आदमी अपनी रोजमर्रा की ज़रूरतों से कुछ कटौती करके तिनका-तिनका बचाता है...यह सोच कर कि मुसीबत के समय वह उसके काम आएगा...। यह तिनका जुड़ते-जुड़ते जब बड़ा आकार लेने लगता है, तब वह उसे बैंक के खाते में जमा कर देता है...। मँहगाई की भीषणता से उपजी चिन्ता का अन्दाज़ा बैंकों में बढ़ती भीड़ से लगता है और महसूस होता है कि गरीब हो या अमीर...शिक्षित हो या अशिक्षित, सभी को जैसे बैंक का ही सहारा है। पर उस वक़्त बड़ा अफ़सोस होता है जब पासबुक कम्प्लीट कराते समय, पैसा निकालते या जमा करते समय अथवा बैंक से सम्बन्धित और कोई कार्य करते-कराते समय ग्राहक किसी बैंक कर्मचारी द्वारा इस कदर झिड़क दिया जाता है जैसे वह कोई ग्राहक नहीं, बल्कि कोई भिखारी हो...। मानती हूँ कि कर्मचारी भी इंसान हैं और बढ़ती भीड़ उनमें चिड़्चिड़ापन पैदा कर देती है, पर परेशान तो हर आदमी है न...? बैंक कर्मचारियों को काम शुरू करने से पहले अपने ऑफ़िस की दीवार पर टँगे बड़े से बोर्ड को क्या एक बार पध नहीं लेना चाहिए- यदि आप हमसे संतुष्ट हों तो दूसरों से कहें और यदि हमसे असंतुष्ट हों तो हमसे कहें...। वाह! क्या बात है...कथनी और करनी में इतना अन्तर...?

२)  कानपुर की खस्ताहाल सड़कों पर निकलना कितना जानलेवा है, यह यहाँ से रोज़ निकलने वाले ही जानते हैं...। भ्रष्टाचार का जीता-जागता नमूना है ये सड़कें...। सरकार और जनता का पैसा खर्च करके बड़ी मेहनत से महीनों में बन कर तैयार तो हो जाती हैं, पर हफ़्ते-महीना बीतते-बीतते फिर वही टूटी-फूटी, ऊबड़-खाबड़ सड़कें...कहीं बड़े-बड़े उभरे से पत्थर, कहीं गढ्ढे...। पैदल चलते हुए नज़रें ज़रा सी भी भटकी कि मुँह के बल गिरे, दुपहिया वाहनों की भी खैर नहीं और अगर चौपहिया वाहन से हैं तो गाड़ी इतने हिचकोले खाती है तो इंसान ब्लड-प्रेशर, स्पॉडलाइटिस आदि का मरीज न भी हो तो भी हो जाता है...। गर पहुँच कर पूरा बदन टूटा-फूटा सा, पके फोड़े-सा टीसता है, सो अलग...। अपने देश की जनता मिलावटी सीमेण्ट से सड़क बनाने वालों को गरियाती रोज अपनी मंजिल तक पहुँचती तो है, पर उस समय बड़ी शर्मिंदगी होती है जब कोई विदेशी कहता है," सड़क है या ट्रैकिंग-रूट...हमारे देश में तो कोई ऐसी सड़क की कल्पना भी नहीं कर सकता..." और अफ़सोस की बात तो यह है कि ये बात सच है...।

३) हमारे देश की कुल आबादी का लगभग एक-तिहाई हिस्सा बहुत...बहुत ही बुरी तरह भूखा मरता है...। गन्दगी से बजबजाते नाले के किनारे ऊबड़-खाबड़, ऊँची-नीची ज़मीन पर खपच्चियों और चीथड़ों से बनाई गई झोपड़ियों के भीतर गरीबी और बेरोजगारी के चलते न जाने कितने परिवार अन्न के एक-एक दाने के लिए खुद तरसते हैं और अपने बच्चों को भी तरसाते हैं...। सड़क के किनारे कूड़े के ढेर से जब वे लावारिस कुत्तों के साथ खुद भी दाना ढूँढते हैं, तब मन उन सम्पन्न लोगों के लिए तिक्तता से भर जाता है जो पार्टियों में लजीज़ और मँहगे खाने को अधिक-से-अधिक खा लेने की लालच में अपनी प्लेट ऊपर तक भर तो लेते हैं, पर पूरा खा नहीं पाते। बचा हुआ अमूल्य अन्न कूड़ेदान में डाल दिया जाता है...। इससे भी ज़्यादा अफ़सोस तब होता है जब पार्टी ख़त्म होने पर मेजबान भी बचा खाना गरीबों में बाँटने की बजाय उसे यूँ ही बर्बाद होने देता है। काश! हम एक दिन भूखे रह कर ऐंठती अंतड़ियों का क्रन्दन सुन पाते...।

४) आज हमारी ज़िन्दगी का एक अहम हिस्सा बन गया है-इलेक्ट्रानिक मीडिया- पर उस समय बहुत निराशा होती है जब यही मीडिया हमारी संस्कृति, हमारी शिक्षा और हमारे विचारों को गंदला करने में एक सशक्त भूमिका निभाता है। कुछ चैनलों पर तो युवाओं के इतने निम्न स्तर के कार्यक्रम आते हैं कि सिर शर्म से झुक जाता है...गन्दी से गन्दी गालियाँ (जिन पर ‘बीप’ की ध्वनि लगा दी जाती है)...व्यंग्यबाण...भद्दे इशारे...अश्लीलता अपनी सीमा से परे चली जाती है। ऐसे कार्यक्रमों में सामान्य घरों से ताल्लुक रखने वाली लड़कियों के भी छोटे...और छोटे होते जा रहे कपड़ों को देख कर कभी-कभी भ्रम होता है कि हम आदिम युग की ओर तो नहीं लौट रहे, जहाँ इंसान पत्तों से अपना तन ढँका करते थे...। आँखों की शर्म खोती जा रही आज की इस युवा पीढ़ी को देख कर क्या आपको अफ़सोस होता है...? शायद हाँ...। पर उससे भी ज्यादा अफ़सोस युवा पीढ़ी को ग़लत राह पर ले जा रही उस मीडिया पर होता है जिसमें किसी भी बुराई के ख़िलाफ़ लड़ कर उसे दूर करने की ताकत तो है, पर वह कई बार उसका इस्तेमाल नहीं करती...।

Saturday, June 11, 2011

आदमी


कविता
                          आदमी

                देवदार के घने पत्तों को
                छूकर जाती हवाओं के बीच
                खड़े होकर
                आदमी ने सोचा कि
                काश !
                मैं आकाश को छू सकता
                और साथ ही
                आकाश की छाती में उगे
                सूरज को
                बन्द कर सकता
                अपनी सख़्त-आदम हथेलियों के बीच
                या फिर
                चाँद की मासूम...पर...
                शरारत भरी हँसी को
                उतार सकता अपने भीतर
                या फिर
                ओस की नमी को
                भर सकता अपनी आँखों में
                और ये हवाएं
                जो मेरी इजाज़त के बिना
                मेरी सांसों में भर कर
                इठला रही है
                इन्हें रोक सकता
                एक अंधेरी
                सीलन-भरी कोठरी के भीतर
                उन हज़ारों-हज़ार लोगों के लिए
                जिन्हें सूरज...चाँद...ओस
                कुछ भी नहीं चाहिए
                हवा का एक नन्हा सा कतरा
                जिनके लिए ज़रूरी है
                रोटी से भी ज़्यादा
                " आदमी"
                सोच रहा था
                ज़रूरत से ज़्यादा
                उन पहाड़ों के बारे में
                जो ऊँचा सिर उठाए
                आदमी के बौनेपन को
                चुनौती दे रहा था

                आदमी ने सोचा कि
                काश !
                वह पहाड़ की तरह सिर उठा सकता
                और उसकी तरह
                अपने पाँवों के नीचे
                बहती नदी का
                रुख मोड़ सकता
                या फिर
                हरी दूब की कोमलता को
                सोख लेता
                अपनी आत्मा के सोख्ते से
                आदमी
                सोचता रहा...इसी तरह
                प्रकृति के ज़र्रे-ज़र्रे के लिए
                हवाएं...
                अब भी उदंड हैं
                पहाड़ अब भी "आदमी" से ऊँचा है
                इसीलिए
                आदमी
                नदी...हवाओं...और पहाड़ के बीच खड़ा
                शर्मिंदा है
                अपने बौनेपन से
                अपने भीतर के जंगल से
                पर फिर भी
                सोचता है कि
                एक दिन
                इन पहाड़ों को काट कर
                एक रास्ता बनाएगा
                वह रास्ता जंगल की ओर नहीं
                बल्कि,
                नदी के मुहाने पर बसे
                उसके खपरैलों वाले घर पर
                जाकर ठहर जाएगा
                ठीक,
                पहाड़ की तरह...|


(चित्र गूगल से साभार)

Wednesday, May 18, 2011

माँ ज़िन्दा रहेगी

कविता
                                     माँ ज़िन्दा रहेगी

                      मेरे पिता के सामने
                      माँ...
                      हमेशा एक बच्ची बनी रही
                      पिता की एक-एक
                      उचित-अनुचित
                      आज्ञा का पालन करती हुई
                      और पिता?
                      उसके ऊपर शासन करते रहे
                      ठीक एक तानाशाह की तरह
                      कड़कती ठंड में भी माँ-
                      न चाहने पर भी
                      सूरज के मुँह धोने से पहले
                      यूनिफार्म पहन कर तैयार हो जाती थी
                      ठीक उस सैनिक की तरह
                      जिसे देश का तानाशाह
                      कभी भी हुक्म दे सकता था
                      दुश्मनों के गढ़ में जाने के लिए
                      माँ-
                      एक सैनिक से ज़्यादा मुस्तैद थी
                      हुक्म बजा लाने में
                      पिता की आँख उठती
                      उससे पहले माँ समझ जाती
                      उन्हें क्या चाहिए
                      माँ-
                      बहुत डरती थी सजा से
                      अब
                      उसकी पीठ खाली नहीं थी
                      बोझ उठाते-उठाते थक गई थी-माँ
                      पर,
                      पिता की चाबुक उठते ही
                      सरपट भागती थी
                      पुराने...टूटे हुए खड़खड़े की घोड़ी की तरह
                      रास्ता बहुत लंबा और ऊबड़-खाबड़ था
                      माँ के पैरों की नाल घिस चुकी थी
                      कितनी बार
                      उसकी नाल बदलवाने की
                      कह चुके थे-पिता
                      पर,
                      नाल बदलने का वक़्त कभी नहीं आया
                      माँ-
                      जब खाली होती थी
                      तब-
                      पिता "घर" पर नहीं होते थे
                      और जब पिता "घर" पर होते
                      तब माँ खाली नहीं होती थी
                      "खाली" होने के इंतज़ार में
                      माँ के पैरों की नाल
                      घिसती जा रही थी
                      माँ को कराहने की भी इज़ाज़त नहीं थी
                      पिता को सबसे अधिक चिढ़
                      माँ की कराहट से थी
                      इसीलिए-
                      नाल घिसने के बावजूद
                      माँ-
                      हमेशा मुस्कराती रहती थी
                      वह पिता को खुश रखना चाहती थी
                      वह जब...
                      निर्जल...निर्जीव रहकर
                      करवाचौथ और तीज का व्रत रखती
                      तब,
                      उसकी उम्र का एक नन्हा क़तरा
                      पिता के भीतर समा जाता
                      माँ यही चाहती थी
                      "चाहत" की यह सीख
                      उसे अपनी दादी...नानी...माँ से मिली थी
                      विरासत में मिले इस गुण(?) के कारण ही
                      माँ
                      आज भी ज़िन्दा है
                      और हमेशा ज़िन्दा रहेगी 
                      तानाशाहों का हुक्म बजाती
                      औरतों के भीतर...।

( चित्र गूगल से साभार)

Sunday, May 8, 2011

एक समन्दर - माँ के अन्दर


आज मातृ-दिवस के पावन अवसर पर दुनिया भर की सभी ममतामयी माँओं को मेरा प्रणाम...|


कविता
                     एक समन्दर - माँ के अन्दर


               माँ के भीतर
               एक बहुत बड़ा समन्दर था
               माँ,
               नहीं जानती थी
               पर, हम भाई-बहन
               वहाँ खूब धमा-चौकड़ी करते
               कभी घुटनो तक पानी में उतर जाते
               तो कभी आती-जाती लहरों को
               भाग-भाग कर थका डालते
               कभी
               गीली...गुनगुनी रेत का
               घरौंदा बनाते
               और फिर झगड़ कर तोड़ देते
               समन्दर के किनारे बिछी ढेरो रेत से
               हम सीपियाँ इकट्ठी करते,
               उन्हें खोलते...कुरेदते
               सीपी के अंदर बंद कोई
               धीरे से चिहुंकता
               हम नहीं जानते थे
               कि वह चिहुंकन माँ की थी
               हम उस चिहुंकन को भूल
               समन्दर में फिर ठिठोली करते
               एक युग जैसे
               समन्दर के सामने टँगे सूरज का
               मुँह चिढ़ाता 
               और,
               हमें किसी और की तलाश थी
               माँ के समन्दर की मछलियाँ
               कभी दिखी नहीं
               पर हम माँ से अक्सर पूछते
              "हरा समन्दर...गोपीचन्दर
               बोल मेरी मछली...कित्ता पानी?"
               माँ की सूनी आँखों में
               पूरा-का-पूरा समन्दर उतर जाता
               और उसकी गहराई में 
               बसी धरती
               पानी के नर्म अहसास के बावजूद
               पूरी तरह चटक जाती
               पर हम
               उसकी चटकन से बेख़बर
               उसके छिछले तट पर ही अठखेलियाँ करते
               थक-हार कर माँ
               समन्दर को धीरे से
               तलहटी में उतार देती
               ताकि,
               उसके बच्चे खेल सकें 
               एक मासूम सा खेल...।

Monday, May 2, 2011

अहसास


कविता
                          अहसास

               आह!...
               और
               अहा!...
               के बीच
               एक महीन रेखा की तरह है
               ज़िन्दगी...
               कुछ आड़ी...कुछ तिरछी
               औरत की कोमल हथेली पर उगी दूब
               आओ,
               आदम की सख़्त हथेली पर
               छितराई रेखाओं को समेटें
               माथे की सलवटों के बीच
               दुबकी ज़िन्दगी

               भूमध्य सागर की लहरों ने सहलाया
               रेगिस्तान की तपती रेत ने तपाया
               ओह ज़िन्दगी!
               टूटी-फूटी सड़कों
               और खुले मेनहोल से ग़ुज़र कर
               एक रास्ता
               खेतों की तरफ़ जाता है
               पीली-फूली सरसों की कोख में
               नाल से उलझी
               घने जंगल के अंधेरे में
               आओ,
               लुका-छिपी का खेल खेलें
               दूर कहीं,
               सन्नाटे को तोडती
               और ज़िन्दगी को ढोती
               छुक...छुक करती ट्रेन गुज़र गई है...

(चित्र-गूगल से साभार)










Wednesday, April 27, 2011

स्त्री होने का ग़ुनाह


कविता
                            स्त्री होने का ग़ुनाह




                   यदि,
                   मैं गुड़िया होती
                   तो सिर फोड़ती दीवारों से
                   और पूछती अपने ख़ुदा से
                   मुझे औरत क्यों बनाया
                   और बनाया तो
                   ज़ुबाँ को क्यों दी
                   अधकचरी गूंगी भाषा
                   तेरी कूची में क्या रंग नहीं थे?
                   या अल्लाह,
                   सारी दुनिया में बिखरे हैं बहुतेरे रंग
                   फिर,
                   मेरा नसीब फीका क्यों है?
                   मेरी ज़िन्दगी में
                   सच्चा प्यार बेनूर रहा
                   पर फिर भी
                   मेरे नसीब में
                   मेरी दो आँखों की तरह
                   दो नूर क्यों गढ़ दिए?
                   ऐ ख़ुदा,
                   मेरी ख़ता क्या थी
                   जो आग जली थी चूल्हे में
                   मेरे सीने में क्यों धधक गई?
                   यदि,
                   मैं गुड़िया होती
                   तो पूछती अपने वजूद से
                   किस रस्ते तू बिखर गई?
                   किन पाटों के बीच
                   तू दब-कुचल गई
                   बाबा ने ब्याहा था कितने चाव से
                   पर क्यों,
                   ज़िन्दगी खिसक गई पाँवों से?

                   यदि,
                   मैं गुड़िया होती
                   तो पूछती बहती हवाओं से
                   तुम कब तक बहोगी...शान्त...धीर
                   ख़्वाबों की चिडिया
                   नींद के दाने पर चोंच मारेगी
                   दर्द,
                   तकिए के नीचे कहीं दुबक जाएगा
                   तब,
                   छाती से निकली "आह" पर भी
                   दुनिया कहेगी "वाह"
                   "आह" "वाह" के पन्नों पर
                   ख़बरें थिरकती रहेंगी
                   और न जाने कितनी गुड़ियाएं
                   अरमानों की दहलीज़ पर दम तोडेंगी
                   यदि...पर नहीं,
                   मैं गुड़िया नहीं
                   इसीलिए,
                   पूछती हूँ खुद अपने आप से
                   इस पाक़-साफ़ (?) दुनिया में
                   स्त्री होना ग़ुनाह क्यों?

( चित्र गूगल से साभार)

Thursday, April 21, 2011

सोनचिरैया की उडान


कविता
                             सोनचिरैया की उडान

                 शहर,
                 एक घने और ख़ौफ़नाक जंगल सा
                 मेरी आँखों में पसरा हुआ है
                 और मैं
                 एक भटकी-डरी सोनचिरैया सी
                 अपने ही टूटे पंखों के बीच
                 सिर दिए
                 दुबकी हुई हूँ
                 सदियाँ बीत गई
                 पर वह त्रासद इंतज़ार
                 ख़त्म नहीं होता
                 जंगल के संकरे...ऊबड़-खाबड़ रास्ते की तरह
                 सोचती हूँ
                 दुबारा पंख उगेंगे क्या?

                 चीड़ के पत्तों के बीच उगा अंधेरा
                 और बड़ा होता जा रहा है
                 विकराल गिद्ध ने
                 उसके चारो ओर
                 अपने डैने फैला लिए हैं
                 कैसे कहूँ
                 तुम्हारे भीतर बैठी
                 वह काली खुंखार-जंगली बिल्ली
                 पैने पंजों से मिट्टी खुरचती
                 मौके की ताक में है
                 कब नीचे आए
                 लाल गोट सा सूरज
                 और फिर
                 बस एक छ्लाँग काफी है
                 पैने दाँतो के बीच
                 जंगल जलेबी सा मीठा चाँद
                 छटपटा रहा है
                 सोनचिरैया नहीं जानती
                 अपने आकांक्षित सपने की उडान
                 पर फिर भी
                 एक सपना उसकी मुंदी आँखों से झर रहा है
                 झर-झर करते ठंडे झरने की तरह
                 किसी दिन
                 यह काली बिल्ली हटेगी
                 और तब
                 वह अपने नए पंख के साथ
                 उड़ेगी
                 खुले आकाश में सूरज के साथ

(चित्र गूगल से साभार )

Monday, April 18, 2011

प्रतिबद्धता


कविता
                       प्रतिबद्धता

               सूरज के उगने पर                                                
               रोज देखती हूँ
               खिड़की से बाहर
               काली-कोलतार सनी सड़क
               और
               उसके गर्वित चेहरे को
               सड़क को
               सलामी सी देते
               कतारबद्ध खड़े पेड़
               चौकसी करते चौराहे
               कोलाहल के बीच
               बाहुपाश में भरे पदचाप
               और
               कपोलों पर झुक
               चुम्बन को आतुर
               सूर्य-रश्मियाँ - भरा बाज़ार
               पर यही सड़क
               सूरज के डूब जाने पर
               काले नाग से फन फैलाते
               अंधियारे के
               शिकंजे में कसते ही
               जब
               हो जाती है वीरान
               तब लगता है
               यह सड़क नहीं
               एक ज़िन्दगी है                                                    
               जो-
               ऊबड़-खाबड़ रास्तों,
               संकरी पगडंडियों के किनारे उगे
               झाड़-झंखाड़ के बीच
               दुबकी-
               मौत से ख़ौफ़ खाने के बावजूद
               आशा का दामन छोड़ती नहीं
               और
               पूरी प्रतिबद्धता के साथ
               दूसरी सुबह
               फिर-फिर जीती है
               ठीक सूरज की तरह...

(सभी चित्र गूगल से साभार)

Saturday, April 16, 2011

प्रतिक्रिया-१


प्रिय पाठकों,
विगत दिनों मैं अपने जिन संस्मरणात्मक अनुभवों को आपके साथ ‘यह सच डराता है’ शीर्षक के अन्तर्गत बाँटे थे, वह अब पुस्तक रूप में आ चुका है। कई ऐसे लोगों ने, जिन्होंने उस पुस्तक को पढ़ा, न केवल मेरे अनुभवों से इत्तफ़ाक रखा बल्कि वक़्त निकाल कर उस पर अपनी अमूल्य प्रतिक्रिया भी दी। हाँलाकि ज़्यादातर ने मुँहज़बानी ही अपने विचार व्यक्त किए, पर मैं बहुत आभारी हूँ डा.श्री एच.पी.खरे जी की, जिन्होंने न सिर्फ़ इस पुस्तक को पूरी तन्मयता से पढ़ा, वरन उस पर बड़ी गहराई से अपने विचार भी लिखित प्रतिक्रिया के रूप में मुझ तक पहुँचाए।
डा.खरे कानपुर के वी.एस.एस.डी कॉलेज के अर्थशास्त्र विभाग के निवर्तमान अध्यक्ष हैं और अपने क्षेत्र के प्रबुद्ध व्यक्तियों की अग्रणी पंक्ति में अपना स्थान रखते हैं।
प्रस्तुत है, उनकी प्रतिक्रिया उन्हीं के शब्दों में:-
        लोकप्रिय कहानी लेखिका सुश्री प्रेम गुप्ता "मानी" द्वारा लिखित संस्मरण ‘यह सच डराता है’ वर्तमान भारतीय समाज की भ्रष्टाचार में लिप्त पतनोन्मुखी दशा के विरुद्ध एक टीस भरे आक्रोश की अभिव्यक्ति है।
        सुश्री ‘मानी’ जी ने अपने संस्मरण में मानव जीवन के एक अहम पहलू ‘जन-स्वास्थ्य’ को ही छुआ है तथा वर्तमान भारतीय समाज में भ्रष्टाचार के शिकंजे में पूरी तरह जकड़ी हुई सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की भीषण दुर्गति से ग्रसित दर्द भरे यथार्थ का हृदयग्राही चित्रण किया है, जो हमारे सम्मुख एक गम्भीर प्रश्नचिन्ह के रूप में कड़ी चुनौती बन कर खड़ा हुआ है। हमारे समक्ष गम्भीर प्रश्न यह है कि ‘क्या सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की अति दुर्दशापूर्ण अवस्था को देखते हुए हम अपने -स्वस्थ मानव जीवन- के आधारभूत लक्ष्य को पाने में सक्षम हैं?’
        ऐसा नहीं है कि भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ चुकी सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की दुर्दशा किसी से छुपी हुई है। समस्त भारतीय समाज (विशेषतया मध्यम और निम्न वर्ग) उससे अवगत ही नहीं वरन उसका भुक्तभोगी भी है। असहाय जन समुदाय निरंतर उसके दंश झेलते हुए पीड़ा सह रहा है, किन्तु अपनी परिस्थितियों से लाचार होने के कारण इस भ्रष्ट सरकारी स्वास्थ्य तंत्र के विरुद्ध आवाज़ उठाने का साहस नहीं करता।
        सुश्री ‘मानी’ जी ने स्वयं के दर्द भरे अनुभवों के आधार पर सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की भीषण दुर्दशा को अपनी लेखनी के माध्यम से सविस्तार उजागर करने का जो सफ़ल प्रयास किया है, वह सराहना योग्य है। मैं सुश्री ‘मानी’ जी को उनके इस सफ़ल प्रयास के लिए साधुवाद देता हूँ।




Thursday, April 14, 2011

रूठा-रूठा वसन्त है


कविता
                       रूठा-रूठा वसन्त है

                  थकी हुई हवाओं ने
                  मेरी आँखों के रस्ते
                  दस्तक दी है
                  मेरे भीतर,
                  दुविधा में हूँ
                  दरवाज़ा
                 खोलूँ या न खोलूँ?

                


                  मेरी खिड़की के ठीक सामने
                  खड़ा
                  पीपल का पेड़ उदास है
                  पतझरी मौसम ने
                  उसकी शाखों से
                  कुछ पत्ते चुरा लिए हैं
                  उदण्ड हवाएं
                  दीप को बुझा देती हैं
                  और बूढ़ी फ़िज़ा की
                  हथेलियों से छिटक कर
                  कुछ आड़ी-तिरछी रेखाएं
                  मेरे चेहरे पर ठहर गई हैं
                  मेरे बेडरूम की दीवार पर
                  सदियों से लगा आईना
                  ख़ौफ़जदा है
                  अपने तन पर उभर आए
                  बदरंग धब्बों से
                  किसने कहा था?
                  हर बरस की तरह
                  इस बार भी आएगा- वसन्त
                  पर कहाँ है- वसन्त?




                  बेसब्र इन्तज़ार में
                  हर गली की ख़ाक छानती
                  मेरी आँखें
                  माँ के जंग लगे
                  पुराने बक्से के भीतर
                  वसन्त को ढूँढ रही हैं
                  मेरे बचपन की वह फ्राक
                  जिसमे टँकी हैं
                  अनगिनत झालरें
                  किसी राजा की छत पर लगे पंखे की तरह
                  ताज़ी हवा का अहसास देते
                  अपनी समझ से उसे
                  मेरी अनपढ़ी माँ ने खूब पक्के रंग में रंगा था
                  अब....एकदम बदरंग हो
                  मुँह चिढ़ा रहा है
                  और माँ की पीली साड़ी
                  जहाँ-तहाँ से मसक गई है
                  देश की फ़िज़ा की तरह
                  हर बरस वसन्त के दिन
                  अपनी यादों के फूल खिलाने के लिए
                  माँ की सन्दूक खोलती हूँ
                  पर फिर भी
                  पता नहीं कैसे
                  उसमें एक अजीब सी सड़ांध भरी है
                  राजनीतिक कुव्यवस्था की तरह
                  सड़ी हुई टीन के किनारे छेद करके
                  एक मरियल-सा चूहा भीतर घुस गया
                  पर,
                  बाहर नहीं आ पाया
                  सन्दूक पर उग आए काले धब्बों ने
                  मुझे फिर याद दिला दी
                  उस अभागे हवाई जहाज की
                  जो टकराए थे गगनचुम्बी इमारत से
                  और फिर पूरी दुनिया
                  तब्दील हो गई थी
                  एक अनोखे क़ब्रिस्तान में
                  बचपन में सुनी थी
                  माँ से ढेरों कहानियाँ
                  बदलती ऋतुओं की शरारतें
                  और उन सबसे अलग
                  ऋतुराज के आने की आहट
                  घर में बनते पकवानों की महक
                  पूरे मोहल्ले की अनोखी चहक
                  पीले-फूले सरसों का रंग
                  खेतों पर उतर कर
                  हमारे भीतर भी भर जाता
                  हर बरस उसमें से
                  चुटकी भर रंग चुरा कर
                  माँ की तरह मैं भी
                  पूरे घर को सराबोर कर देना चाहती हूँ
                  और-
                  अपने बच्चों के कपड़ों को भी
                  मैं उनकी आँखों में
                  देखना चाहती हूँ
                  अपने बचपन की चमक को
                  पर,
                  मेरे बच्चों की आँखों में
                  कोई भी जगह खाली नहीं
                  उसमें तो भरी है
                  बमों के धमाकों की दहशत...
                  कब कोई धमाका
                  घर का कोना खाली कर दे
                  वसन्त आए भी तो कैसे?
                  चिमनियों से निकलते काले धुएं ने
                  पूरी दुनिया को घेर रखा है
                  वसन्त दुविधा में है
                  राजनीतिक उठापटक...
                  आतंकवाद....
                  पूरे आकाश को घेरता काला धुआं
                  एक अनजाने भय से दरकती धरती
                  और इन सबसे अलग
                  अपने को बचाने की फ़िक्र में
                  दूसरे को तबाह करता - आदमी
                  ऋतुएं आज भी बदल रही हैं
                  पर वसन्त?
                  उसके आने की तो अब आहट भी नहीं
                  लगता है
                  आदमी की बदलती फ़ितरत से
                  रूठ गया है हमसे
                  हमारा वसन्त.....

(चित्र-गूगल के सौजन्य से )

Monday, April 11, 2011

नियति


कविता
                              नियति

                    बहुत पहले
                    मेरा मन
                    तुम्हारे आंगन में खिले
                    उस लाल गुलाब की तरह था
                    जो ठीक वसन्त के दिन खिला था
                    और उसके चारो तरफ़ के
                    वे कैक्टसी काँटे
                    जो उसकी नाजुक पंखुडियों को
                    दंशित कर रहे थे
                    तुमने काट कर अलग कर दिए थे
                    पर...बाद में सोचा कि
                    काँटे फिर न उगें
                    तुमने गुलाब ही तोड़ लिया
                    और फिर
                    उसे टाँक लिया कोट में
                    ठीक अपने दिल के पास
 
                    पर अब
                    जबकि
                    कई वसन्त बीत गए हैं
                    कई पतझरी मौसम
                    आए और गए
                    तुम्हारे कोट का रंग
                    बदरंग हो गया है
                    तुमने वह कोट छोड़ कर
                    नया कोट सिलवा लिया है
                    वह बदरंग कोट
                    तुम्हारी अलमारी के भीतर
                    टँगे हैंगर पर
                    लावारिस सा पडा है
                    तुम उस कोट के साथ भूल गए
                    उस खूबसूरत गुलाब को
                    जो कभी टाँका था तुमने
                    ठीक अपने दिल के पास
                    पर अब
                    अपनी लालिमा खोकर
                    वह गुलाब झर रहा है
                    पंखुड़ी-पंखुड़ी
                    पैंट के पांयचों के पास....


Saturday, April 9, 2011

एक कविता- वसन्त


कविता
                               एक कविता- वसन्त

                    मैं,
                    कई जन्मों से
                    वसन्त की प्रतीक्षा में हूँ
                    मेरे ड्राइंगरूम की
                    पुरानी
                    जंग लगी मेज पर रखे
                    गुलदस्ते का रंग
                    बदरंग हो गया है
                    और
                    पलाश के वे रक्तिम पुष्प
                    जो मेरे सोलहवें वसन्त पर
                    दिए थे तुमने
                    प्रणय-प्रतीक के रूप में
                    अब-
                    मुरझा गए हैं
                    मेरे मुर्झित अधरों की तरह
                    और
                    मेरे घने, लम्बे केशों में गुंथे
                    चम्पई पुष्प
                    जो गूंथे थे तुमने
                    अपनी पौरुषता से
                    अब झर गए हैं मेरे केशों की तरह
                    मैं क्या करूँ?
                    मेरे इस मौसम में
                    न पलाश के रक्तिम पुष्प हैं
                    और न चम्पा-गंध
                    मैं
                    जानती हूँ  इस शाश्वत-सत्य को
                    कि
                    अब वसन्त नहीं आएगा
                    क्योंकि,
                    पीले सरसों के समुद्र में
                    अठखेलियाँ कर
                    भँवरों को
                    भ्रमित करने वाला वसन्त
                    दिग्भ्रमित हो गया है
                    और धरती को भूल
                    मेरी आँखों में उतर गया है
                    जानती हूँ मैं,
                    तुम इसी से कतराते हो
                    तुम कुछ भी कहो
                    बस एक बार और
                    वसन्त उतर आए धरा पर
                    हाँ... वही वसन्त
                    जो पलाश-पुष्प का मुकुट लगा
                    धरती पर उतरता है
                    और भर लेता है
                    अंकपाश में खिलखिलाती सॄष्टि
                    और
                    ऐसे में
                    धरती बन जाती
                    सिर्फ़-
                    एक कविता वसन्त ।