Monday, January 23, 2012

एक टुकडा सपना


कविता
                       एक टुकडा सपना

                पत्थरों के इस शहर में
                मांगा था आदमी ने
                ज़िन्दगी से
                रुपहले सपनों का एक टुकड़ा     
                        
                पर,
                ज़िन्दगी अपने ही शहर में
                खुद एक सपना थी
                जहाँ नींद में डूबे आदमी को
                खुद अपनी ख़बर नहीं थी
                और वह
                अनजाने ही
                अख़बार के काले अक्षरों में सिमटा
                एक सुर्ख ख़बर था
                इन ख़बरों ने
                उसकी ज़िन्दगी को निगल लिया था
                अपने अजगरी जबड़े से
                सपनों के इस शहर में
                अब दफ़न हैं- सपने
                पर आदमी
                नींद में अब भी ढूंढ रहा है
                उन सपनों को
                जो खुशियों के गीत गुनगुनाते वक़्त
                स्पर्शित कर गए थे मन
                आदमी,
                उन स्पर्शों की महक को
                अब भी महसूसता है
                इसीलिए-
                ज़िन्दगी से सपनों की बात करता है


                पर,
                वह नहीं जानता
                कि अब
                ज़िन्दगी सपने नहीं बाँटती
                वह तो अपने व्यापार में
                घाटा खाकर
                खुद उधार माँग रही है
                रुपहले सपनों का एक टुकड़ा
                सपने-
                इस शहर में ढेरों हैं
                पर,
                उससे ज़्यादा हैं वे पत्थर
                जो अपने सपनों को पोषित करने के लिए
                तोड़ते हैं
                दूसरों के सपने
                तो दोस्तों,
                भूल जाओ सपनों की बात
                क्योंकि,
                अब नींद पर
                ज़िन्दगी नहीं
                मौत भारी है.....।


(सभी चित्र गूगल से साभार)

9 comments:

  1. सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. सपनो जैसी लगी रचना.....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    गणतन्त्रदिवस की पूर्ववेला पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. अपने अजगरी जबड़े से
    सपनों के इस शहर में
    अब दफ़न हैं- सपने
    पर आदमी
    नींद में अब भी ढूंढ रहा है
    उन सपनों को
    this is nice one commendable creation .

    ReplyDelete
  5. पर,
    वह नहीं जानता
    कि अब
    ज़िन्दगी सपने नहीं बाँटती
    वह तो अपने व्यापार में
    घाटा खाकर
    खुद उधार माँग रही है
    रुपहले सपनों का एक टुकड़ा
    सपने-... जीने की एक कोशिश, एक टुकड़ा सपना

    ReplyDelete
  6. पत्थरों के इस शहर में
    मांगा था आदमी ने
    ज़िन्दगी से
    रुपहले सपनों का एक टुकड़ा .very nice.

    ReplyDelete
  7. http://urvija.parikalpnaa.com/2012/02/blog-post_04.html

    ReplyDelete
  8. जीने की एक मात्र उम्मीद एक टुकड़ा सपना......बहुत ही खुबसूरत....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर...
    आज आपकी एक कविता वटवृक्ष में पढ़ी..सो यहाँ खिची चली आई..

    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete