Thursday, September 6, 2012


कविता
                          भीतर की बाढ़

                 अभी तक
                 किताबों में पढ़ा था
                 फ़िल्मों में देखा था
                 और
                 ज़ुबानी सुना था
                 गाँव में जब बाढ़ आती है
                 उजड़ जाती है
                 ज़िन्दगी
                 चील-कौओं का ग्रास बनता
                 ठहरता आदमी
                 मौत के जलाशय में
                 हरी काई सी जमी निराशा

       
             
                 पर कहीं
                 आकाश में
                 दीप सा जला सूरज
                 और इन सबके बीच
                 एक मनुआ है...
                 दिदियाऽऽऽ...,
                 सुना है
                 इस बार सहर मा बाढ़ आई है
                 और
                 तटवा किनारे पूरा सहर जमा है
                 तब,
                 पता नहीं क्यों
                 मेरे अंदर की जंगली बिल्ली ने
                 अपने पंजों को खोल दिया
                 तट किनारे जाकर देखा तो भूल गई
                 किताबों में पढ़ी
                 बाढ़ की त्रासद-कथा
                 याद रहा तो सिर्फ़
                 सदियों पूर्व का जल-प्रलय
                 और उस प्रलय के बीच
                 जन्मित सृष्टि
                 पर आज,
                 तट के किनारे
                 प्रलय का मुँह चिढ़ाती
                 सृष्टि आह्लादित थी
                 दृश्य सटीक था और अधुनातन भी
                 मेरी काली आँखों का लेंस सक्रिय हो उठा
                 मन ने कहा,
                 कोई दृश्य छूटने न पाए
                 जर्जर झोपडियों में
                 मौत की काली परछाई सा
                 ठहरा अंधेरा
                 और,
                 उस अंधेरे के बीच
                 चीथड़ों में लिपटा
                 दूधिया बदन
                 गंदलाए फेनियल पानी में
                 गले तक डूबे घर
                 घर की छत से चिपकी
                 ज़िन्दगी की भीख माँगती
                 कातर आँखें,

               
                 पर,
                 उन आँखों से बेख़बर
                 नपुंसकों की भीड़
                 जब-तब किसी पाजी बच्चे सी
                 ताली बजा रही थी
                 और बच्चा?
                 पता नहीं किसका
                 गंदे पानी के भंवर में था
                 रुकी ताली के बीच
                 कोई चीखा
                 उफ़...
                 वह डूब रहा है
                 और तभी कैमरा क्लिक हो गया
                 ओह!
                 कितनी खूबसूरत बात
                 ज़िन्दगी और मौत एक साथ?
           
            
(सभी चित्र गूगल से साभार)

11 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (08-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. बहुत मर्मस्पर्शी और सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. बहुत गहन और हृदयस्पर्शी रचना...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. पर,
    उन आँखों से बेख़बर
    नपुंसकों की भीड़

    सच यही है ...मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  5. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/12/2012-11.html

    ReplyDelete
  6. बधाई अच्छी रचना के लिए ...

    ReplyDelete
  7. http://www.parikalpnaa.com/2012/12/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  8. http://www.parikalpnaa.com/2012/12/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  9. प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete